पी.सी.गोदियाल "परचेत"

My blogs

Blogs I follow

About me

Gender MALE
Occupation Service
Location New Delhi, Delhi, India
Links Wishlist
Introduction ऐसा कुछ भी ख़ास है नहीं बताने को, अपने बारे में ! बस, यों समझ लीजिये कि गुमनामी के अंधेरो में ही आधी से अधिक उम्र गुजार दी !हाँ, अपनी बात कुछ भगत सिंह जी के अंदाज में इस तरह कहूंगा ; इन बिगड़े दिमागों में, ख्वाबों के कुछ लच्छे हैं, हमें पागल ही रहने दो, हम पागल ही अच्छे हैं। साभार, गोदियाल My humble request is to kindly ignore the typographical errors. My fondest wish is to inspire someone else to write something even better than I have done. Look forward to receiving your creative suggestions. regards, Godiyal xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
Interests कांच के घरो पर पत्थर फेंकना !, परछाइयों में इंसान को ढूँढने की कोशिश !
Favorite Movies हमारी याद आएगी" (1961), कागज़ के फूल
Favorite Music Old Hindi & Garhwali songs.
Favorite Books झूठा सच -यशपाल (१९५८), Ghost Written - David Mitchell(1999)