Prem Farukhabadi

My blogs

About me

Gender MALE
Industry Military
Occupation Retired
Location Noida, Uttar Pradesh, India
Introduction कोई दर्द बाँटता तो कोई खुशी बाँटता है। जिसके पास जो होता वो वही बाँटता है। अँधेरों में जीना भी कोई जीना है दोस्त, जीना उसका जीना जो रोशनी बाँटता है। किसी की कभी भी जान ले सकता है दुष्ट, पर सज्जन तो हमेशा ही जिन्दगी बाँटता है। किसी को रुलाये ऐसा गम किस काम का, सराहो उसको जो सब को हँसी बाँटता है। बुझदिल लोग ही जिया करते हैं उदासियों में, दिलदार तो वही जो सबको ताजगी बाँटता है।
Interests Astrology & Numerology
Favorite Movies Deewar
Favorite Music Classical
Favorite Books Dhuppal- Bhagvati Charan Verma