कुमार विनोद

My blogs

Blogs I follow

About me

Gender Male
Industry Telecommunications
Location अब तो दिल्ली वाले हो गए हैं, क्रांति प्रदेश, India
Introduction पेशा तो है हमारा- आप कहें और हम जानें का, क्योंकि हमारे पेशे में सुनने की सख्त हिदायत है. मगर लगातार सुनते रहने की क्रिया कालांतर में ऐसी प्रतिक्रिया करती है कि अगर 'रसायन' को बाहर न आने दें तो खाज शुरू हो जाती है. लेकिन दिक्कत ये है कि बोलना आज की डेट में कई लोगों को खटक सकता है, इसलिए अक्सर चुप ही रहते हैं-(वैसे भी डेस्क जॉब इसकी ज्यादा गुंजाईश भी नहीं छोड़ता)लेकिन प्रकृति का नियम है, 'जो अंदर जाता है वो बाहर आता है, भले ही निकलने का अनुपात अलग हो.' इस तरह अपने लेखन को उत्सर्जन कह सकते हैं- और कहें भी क्या?
Interests Music, literature
Favorite Movies Saawariya, dev D
Favorite Music Instrumental
Favorite Books Brecht, kafka, premchand, Agyeya, tahmeena durrani