शहरोज़

My blogs

Blogs I follow

About me

Gender MALE
Industry Communications or Media
Occupation पत्रकारिता
Location शहरोज़, दिल्ली/रायगढ़/शेरघाटी, India
Introduction बकौल कवि-चिन्तक आर चेतनक्रांति :पहले शहरोज़ एक व्यक्ति जिसका साथ कभी कठिन नहीं होता , जो किसी का रास्ता नहीं काटता और जो अपनी दावेदारी सबसे बाद में रखता है . यह गुण मनुष्यों कि एक लगभग दुर्लभ प्रजाति के हैं .....दैनिक भागदोड़ में जब भी वो ऐसी चीजों से रूबरू होता है जो उससे आदमी होने के नाते जवाब तलब करती हैं ,वो कविता लिखता है और सच्चे क़लमकार की तरह इस धारणा का खंडन करता है की दुनिया में कोई संवेदनशील अब नहीं बचा . वरिष्ठ साहित्यकार विष्णुचंद्र शर्मा लिखते हैं : शहरोज़ मूलत:कवि है.पेशा पत्रकारिता .लेकिन पत्रकारिता या कहानी में उसका कवि पक्ष हावी नहीं होता .मुझे लगता है ,शहरोज़ पर बात करने के लिए , सर्वप्रथम उसके समूचे रचनाकर्म पर काम करने की ज़रुरत है ,जैसा कभी भगवतीचरण वर्मा पर नीलाभ ने किया था .उर्दू ज़मीन के चलते इसकी भाषा में जादुई निखार आ जाता है .
Interests अदब(साहित्य )के साथ अदब(सम्मान ) का रिश्ता, लिखना कम, पढना ज्यादा, हर इक से मिलने की कोशिश करना, गाँव, शहर, सड़क चौबारे की खाक छानना
Favorite Movies कलात्मक फिल्में, कुछ इक ....रोमांटिक
Favorite Music फ़िलहाल अल्लाहरक्खा रहमान का संगीत, ग़ज़ल में अहमद हुसैन बंधू, सदाबहार जगजीत सिंह और रफ़ी, लता के सभी गाने, किशोर, मुकेश आदि कभी-कभार
Favorite Books कई हैं, फिलवक्त फ़सानायेआज़ाद, गोली, वासकसज्जा, वार एंड पीस जैसे उपन्यास, विदेशी वज़नी नाम लेकर हैरतज़दा करना फ़िजूल है .